Posts

Image
एक इंसान जिसने  नैतिकता की  झिझक मे पहले प्यार की आहुती दे दी और उम्र भर  उस संताप  को  गले मे डाले, रिश्तों का फर्ज निभाता चला गया । कभी माँ-बाप  का  वात्सल्य, कभी पत्नी  का प्यार  तो कभी बच्चो  की ममता  उसके पैरों मे  बेड़ियाँ बने  रहे। मगर इन सबके  बावजूद वो  उसे कभी  ना भुला सका जो  उसके  दिल के  किसी कोने  मे सिसक  रही  थी।वक़्त उसकी झोली मे वियोग की तड़प भरता रहा...
कहाँ आसान है पहली मुहब्बत को भुला देना बहुत मैंने लहू थूका है घरदारी बचाने में -मुन्नवर राणा



(मैंने अपना ये लघु उपन्यास मशहूर शायर मुन्नवर राणा साहब के इस शेर से प्रभावित होकर लिखा है । जहां एक इंसान अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों का निर्वाहण करते करते अपने पहले प्यार को अतीत की गहराइयों मे विलीन होते देखता रहा। मगर उम्र के ढलती सांझ मेन जाकर जब जिम्मेदारियों से हल्की सी निजात मिली तो दौड़ पड़ा उसे अतीत के अंधकूप से बाहर निकालने को....
विक्रम (eMail- akrajput8373@gmail.com) (WebSite: www.guglwa.com)
रात अपने पूरे यौवन पर थी। त्रिवेणी एक्सप्रेस अपने गंतव्य को छूने सरपट दौड़ रही थी। सभी यात्री अपनी अपनी बर्थ पे गहरी नींद म…